"JavaScript is a standard programming language that is included to provide interactive features, Kindly enable Javascript in your browser. For details visit help page"

Facilities & Service Corners

इमेजिंग रिओमीटर

यंत्र का विवरण:-निर्माण: लैंकेस्टर विश्वविद्यालय, यूनाइटेड किंगडम, मॉडल: IRIS
विनिर्देश:
रिओमीटर का स्थान: मैत्री अंटार्कटिका, एंटीना की संख्या: 16,
एंटीना लेआउट: 4X4, रिसीवर की संख्या: 16 (दो चैनलों के साथ 8 रिसीवर मॉड्यूल),
बीम की कुल संख्या: 17, इमेजिंग बीम की संख्या: 16, विस्तृलत बीम की संख्या: 1, प्रचालन आवृत्ति: 38.2 मेगाहर्ट्ज, बैंड विस्ता,र: 250 kHz, डिजिटल घड़ी की आवृत्ति: 50 MHz,
परिवर्तन आवृत्ति: 1.47 मेगाहर्ट्ज, ज़मीनी सतह से एंटीना की ऊंचाई: 1.96 मीटर
प्रत्येक डाइपोल की लंबाई: 3.92 मीटर
मैत्री में इमेजिंग रिओमीटर प्रणाली38.2 मेगाहर्ट्ज पर प्रचालित है और यह यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड विश्वविद्यालय के भौतिकीएवं प्रौद्योगिकी संस्थान द्वारा दक्षिणी ध्रुव पर स्थारपित इकाई केलगभग समान है। रिओमीटर में नए डिजाइन के रिसीवर बोर्ड हैं, समय जीपीएस संकेत प्राप्ति से संचालित होता है, और डिजिटलीकरण 8 बिट के बजाय 12 बिट है। बेहतर तडि़त सुरक्षा को छोड़कर, एंटीना, ग्राउंड प्लेन और बटलर मैट्रिक्स असेंबलीमूल मैरीलैंड डिजाइन जैसे ही हैं। विस्तृित-बीम यंत्र से आउटपुट का उपयोग शीघ्र-दृश्यब उद्देश्यों के लिए किया जाता है। प्रणाली का मूल समय वियोजन1 s है। सबसे कम बीम (शीर्षात्मबक) अर्ध-विद्युत बिंदुओं के बीच 13 डिग्री चौड़ा है, और 90 किमी (ओवरहेड) पर सबसे अच्छा स्थानिक वियोजन लगभग 20 किमी है। तिरछे बीम काफी व्यापक हैं। इस प्रणाली को भा.भू.सं. द्वारा वर्ष 2010 के दौरान लांकेस्टर विश्वविद्यालय, इंग्लैंड की सहायता से मैत्री में स्थापित किया गया था। यह प्रणाली भौगोलिक रूप से उत्तर-दक्षिण से संयोजित है।

सिद्धांत
रीओमीटरवायुमंडलीय अवशोषण को मापने का एक उपकरण है जिसे 1950 के दशक में विकसित किया गया था। सी.जी. लिटिल और एच. लेइनबैच द्वारा 1959 में यूनिवर्सिटी ऑफ अलास्का जियोफिजिकल इंस्टीट्यूट में पहले व्यावहारिक संस्करणों में से एक को विकसित किया गया था, जिन्होंसने (पारलौकिकविद्युतचुंबकीय विकिरणके उपयोग सेसापेक्ष आयनमंडलीय ओपेसिटी मीटर)एक्रोनिम RIOMETER का भी आविष्कार किया था।
रिओमीटर एक रेडियो रिसीवर है जो एक एंटीना से जुड़ा होता है, जिसकी बीम आकाश की ओर होती है। रेडियो रिसीवर सितारों, ग्रहों (विशेष रूप से बृहस्पति) और सूर्य [1] द्वारा उत्पन्नर प्राकृतिक रेडियो रवसंग्रहित करता है। पृथ्वी के घूमने के कारण पूरे दिन आकाशीय रव का स्तर बदलता रहता है। इस भिन्नता को दि साइड रिअल डे (सौर दिवस से लगभग 3 मिनट और सौर दिन से 56 सेकंड कम) के रूप में जाना जाता है। इस प्रकार, हम क्रमिक दिनों में समान रव शक्ति प्राप्त करने की उम्मीद कर सकते हैं। कई दिनों के दौरान औसतन की गई इस रव शक्ति की दैनिक भिन्नता को क्विट डे कर्व कहा जाता है। एक निश्चित समय पर आकाश के शोर के स्तर की तुलना करके हम क्विट डे कर्व से क्या उम्मीद करते हैं, हम देख सकते हैं कि आयनमंडल आकाश के किसी भी रव को रोक रहा है या नहीं। दूसरे शब्दों में इसे एक अवशोषण घटना कहते हैं। 38 मेगाहर्ट्ज पर प्रचालित एक रिओमीटर द्वारा प्राप्त रव की शक्ति -120 dBm से -100 dBm तक होती है और लगभग 300 kHz रेंज के रिसेप्शन बैंडविड्थ का उपयोग होता है। यह 1e-15 वाट और 1e-13 वाट के बीच होता है। इस तरह के एक छोटे से संकेत के साथ किसी भी अवरोधक रव या रिओमीटर में आंतरिक रूप से उत्पन्न रव मापन को खराब कर सकता है। पहली समस्या (बाहरी रव) से बचने के लिए, रिओमीटर खगोलिय प्रयोजनों के लिए एक आरक्षित आवृत्ति बैंड में काम करता है; जो38.2 मेगाहर्ट्ज के आसपास स्थित है।
दूसरी समस्या (आंतरिक शोर) से निपटने के लिए, मौजूदा रिओमीटर आने वाले सिग्नल का निरपेक्ष मापन करने से बचते हैं। इसके बजाय, प्राप्त अंतरिक्षीरव स्तर की तुलना एक ही तरह के आंतरिक रूप से उत्पन्न रव के स्तर (गाऊसी रव) के साथ की जाती है। "संतुलन तकनीक" के रूप में जानी जाने वाली इस तकनीक का लाभ यह है कि आउटपुट सिग्नल सीधे एक सटीक आंतरिक रव स्रोत को भेजा जाता है, और अन्य सभी आंतरिक रूप से उत्पन्न रव तुलना की प्रक्रिया में समाप्त हो जाते हैं।

अनुप्रयोग
•    ध्रुवीय-ज्योजति गतिकी
•    अंतरिक्ष मौसम

 

Hindi